अयोध्या फैसले पर जामा मस्जिद के इमाम ने कहा- ‘जिसका जो मालिकाना हक है उसको मिलना चाहिए’

अमेठी – माननीय सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा आज सुनाए गए विवादित राम जन्मभूमि के फैसले पर अमेठी चौक स्थित जामा मस्जिद के इमाम ने इस पकड़ा पर अपनी राय बताते हुए कहा कि – यह तो हम लोगों को पहले से ही नजरिया था कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा उसका हमें एहतराम करना है।

उसको हमें कुबूल करना है। सुप्रीम कोर्ट का जो फैसला है। वह रामलला के हक में आ गया हम तो उसको तस्लीम करते हैं । ठीक है जिसका जो मालिकाना हक है उसको मिलना चाहिए । मालिकाना हक सुप्रीम कोर्ट ने रामलला को दिया है।

वहीं पर सुप्रीम कोर्ट के द्वारा मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन दिए जाने वाले फैसले पर इमाम ने कहा कि – यह गलत है क्योंकि मुसलमान का अगर उस पर कोई हक ही नहीं है तो 5 एकड़ जमीन क्यों दी जा रही है।

जब फैसला हो गया है कि इस जमीन के मालिक रामलला है तो वह 5 एकड़ जमीन नहीं देना चाहिए । यह तो हुआ दो टूक फैसला कि कौन मालिक है कौन इसका मालिक नहीं है तो मालिक को दे दिया गया ।

लेकिन 5 एकड़ जमीन जो देना है । वह किस बुनियाद पर दी जाएगी? यह तो साबित करता है कि उस जमीन पर मुसलमान का भी हक है और उनको हक ना दे करके उनको 5 एकड़ जमीन कहीं दे दी जा रही है ।

=>

संदर्भ पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *