आचार्य किशोर कुणाल का बड़ा एलान, राम मंदिर ट्रस्ट को हर साल देंगे 2 करोड़ रुपये

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क अयोध्या मामले पर आज सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया. दशकों से चले आ रहे विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने अंतिम फैसला सुना दिया. फैसले के मुताबिक अयोध्या की विवादित जमीन पर राम मंदिर ही बनेगा. जबकि मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में ही अलग से 5 एकड़ जमीन दी जाएगी.

अयोध्या मामले पर फैसला आने के बाद पटना के महावीर मंदिर ने बड़ा एलान कर दिया है. महावीर मंदिर ने अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर से लेकर वहां दर्शन करने जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए अपने सारे संसाधन लगा देने का एलान किया है. पटना महावीर मंदिर ट्रस्ट के प्रमुख आचार्य किशोर कुणाल ने आज ये घोषणा की है.

महावीर मंदिर का बड़ा एलान

महावीर मंदिर ट्रस्ट के प्रमुख आचार्य किशोर कुणाल ने घोषणा की है कि उनका ट्रस्ट अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर के लिए प्रतिवर्ष 2 करोड़ दान देगा. पांच सालों तक महावीर मंदिर की ओर से ये राशि दी जाएगी यानी कुल 10 करोड़ रुपये राम मंदिर के ट्रस्ट में दिए जाएंगे. आचार्य किशोर कुणाल ने कहा कि पटना का महावीर मंदिर अयोध्या में रामलला के दर्शन के लिए जाने वाले सभी श्रद्धालुओं के लिए निःशुल्क भोजन का प्रबंध करेगा. भोजन का ये प्रबंध पूरे साल दिन और रात चलता रहेगा. जैसे ही अयोध्या में स्थिति सामान्य होगी वैसे ही पटना हनुमान मंदिर की ओर से य़े व्यवस्था शुरू कर दी जाएगी.

अयोध्या मामले से लंबे समय से जुड़े रहे हैं किशोर कुणाल

बता दें कि पूर्व आईपीएस और महावीर मंदिर ट्रस्ट के प्रमुख आचार्य किशोर कुणाल अयोध्या मामले से लंबे अर्से से जुड़े रहे हैं. 1989-1990 में केंद्रीय गृह मंत्रालय में ओएसडी के तौर पर पदस्थापित  किशोर कुणाल ने वीपी सिंह और चंद्रशेखर के प्रधानमंत्री रहने के दौरान अयोध्‍या के मुद्दे पर हिंदू और मुस्लिम पक्ष के बीच बातचीत शुरू कराई थी. वे दोनों पक्षों के बीच समन्‍वयक की भूमिका निभा रहे थे. आचार्य किशोर कुणाल ने अयोध्या पर एक किताब भी लिखी. उनकी ये किताब सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामले में सुनवाई के दौरान बेहद चर्चा में रही.

सुनवाई के आखिरी दिन 5 जजों की संविधान पीठ के सामने मुस्लिम पक्षकार के वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने गुस्‍से में आकर अयोध्या से संबंधित एक नक्शा ही फाड़ दिया था.  हिंदू पक्षकार के वकील विकास सिंह ने एक किताब का उल्‍लेख करते हुए यह नक्शा दिखाया था. ये नक्शा आचार्य किशोर कुणाल की किताब से लिया गया था.

ओवैसी को नहीं मंजूर है सुप्रीम कोर्ट का फैसला, बोले- हमें खैरात नहीं चाहिए

संदर्भ पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *