राम मंदिर फैसले पर विदेशी मीडिया का रिएक्शन, जानें दुनिया के अखबारों ने क्या लगाई सुर्खिंयां

इंटरनेशनल डेस्कः अयोध्या में विवादित भूमि के बारे में सुप्रीम कोर्ट ने कलअपना ऐतिहासिक फैसला सुना कर देश व दुनिया के लोगों को चौंका दिया । सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला शनिवार को पूरी दुनिया में सुर्खियां बना। इस फैसले को विश्व के कई मुख्य अखबारों और न्यूज चैनलों ने ( वरीयता दी। विदेशी मीडिया ने दी जहां कोर्ट के फैसले और विवाद की विस्तृत जानकारी दी वहीं उन्होंने फैसले पर अपना रुख भी स्पष्ट किया।

PunjabKesari

पाक ने खड़े किए सवाल…
सबसे पहले इस फैसले का रिएक्शन पाकिस्तान में सामने आया। वहां नेता हों या मीडिया इस फैसले पर सबने सवाल ही उठाए गए । पाक नेताओं बेतुके सवालों का भारत ने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि उसे भारत के अंदरूनी मामलों पर टिप्पणी करने की कोई जरूरत नहीं है। वहीं पाकिस्तानी चैनल जिओ टीवी ने लिखा है, भारतीय सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद की जमीन मंदिर के लिए दे दी। मुस्लिम पक्ष को दूसरी जगह जमीन लेने की जरूरत नहीं। पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन ने विवादित भूमि हिंदुओं और मुस्लिमों को वैकल्पिक भूमि देने वाली बात को अपनी सुर्खी बनाया। डॉन ने फैसले के उस बिंदु का भी जिक्र किया है, जिसमें पांच सदस्यीय पीठ ने विवादित ढांचा गिराए जाने की बात स्वीकारी थी ।

PunjabKesari

अमेरिकी अखबारों ने ये लिखा…
अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा, भारतीय कोर्ट ने अयोध्या विवाद में हिंदुओं के पक्ष में फैसला सुनाया। वाशिंगटन पोस्ट ने लिखा, ‘सुप्रीम कोर्ट ने भारत में विवादित भूमि पर मंदिर बनने का रास्ता किया साफ किया। वॉशिंगटन पोस्ट ने लिखा, ‘भारतीय सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला देते हुए विवादित भूमि पर मंदिर बनने का रास्ता साफ कर दिया है। मुस्लिम पक्ष को अलग से पांच एकड़ भूमि देने का भी आदेश दिया गया है।’

 

ब्रिटिश मीडिया में भी छाया रहा राम मंदिर मुद्दा..
द गार्डियन ने लिखा, ‘अयोध्या फैसला: विवादित जमीन पर हिंदू पक्ष ने जीता केस।’ यूएई के अखबार गल्फ न्यूज ने लिखा है, ‘हिंदुओं को विवादित और मुस्लिमों को वैकल्पिक जमीन।’ इसके अलावा खबर में सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय पीठ द्वारा सुनाए गए फैसले के सभी मुख्य बिंदुओं को भी हाईलाइट किया गया है।

PunjabKesari

खाड़ी देशों में भी गूंजा राम मंदिर का फैसला…
कतर स्थित न्यूज चैनल अल जजीरा ने भी अपनी वेबसाइट में अयोध्या फैसले से जुड़ी कई खबरों को प्रमुखता से प्रकाशित किया है। पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन ने विवादित भूमि हिंदुओं और मुस्लिमों को वैकल्पिक भूमि देने वाली बात को अपनी सुर्खी बनाया। डॉन ने फैसले के उस बिंदु का भी जिक्र किया है, जिसमें पांच सदस्यीय पीठ ने विवादित ढांचा गिराए जाने की बात स्वीकारी थी ।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने ऐतिहासिक फैसले में अयोध्या की विवादित जन्मभूमि रामलला विराजमान को दे दी वहीं मस्जिद के लिए अलग से जमीन देने के लिए कहा है।सुप्रीम कोर्ट ने निर्मोही अखाड़े के दावे को खारिज कर दिया ।

RES GALLERY

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *